Skip to main content

.

Google Sheets क्या है? | Google Sheets के फायदें और नुकसान

What Is Google Sheets? | What Is Google Spreadsheet?

Google Sheets: गूगल शीट्स हमारे माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल की तरह एक सीट होती है. जिस पर हम डाटा बना सकते है लकिन Google Sheets ऑनलाइन काम करती है. और हम जो भी काम यहाँ करते है वो हमारे कंप्यूटर में नही बल्कि ऑनलाइन ही सुरक्षित रहता है. हम जब चाहे Google Sheets को अपडेट कर सकते है. प्रिंट भी निकल सकते है. इस में कोई भी जानकारी डाल कर सुरक्षित रख सकते है. और जब भी हमे Google Sheets की ज़रुरत पड़े हम इसे आसानी से देख सकते है. Google Sheets में हम वोह सब काम कर सकते है जो हम माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल में करते है. डाटा एनालिसिस हो, चार्ट बनाना, टेबल बनाना, कोई डाटा तैयार करना सब कुछ हम Google Sheets में आसानी से कर सकते है.

Google Sheets पर किया हुआ सारा काम Cloud पर सुरक्षित रहता है. जिसे हम कभी भी इस्तिमाल कर सकते है.


What is Google Sheets

Google Sheets के फायदें और नुकसान

Google Sheets एक फ्री सर्विस है जो गूगल के द्वारा दी जाती है. अगर हम किसे कंपनी में माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल का इस्तिमाल करते है तो हमे उस का लाइसेंस खरीदना पड़ता है. जो हर यूजर का अलग अलग होता है. इस तरह कंपनी के काफी पैसा देना पड़ता है. इस के अलावा अगर हम देखे तो गूगल शीट्स बिलकुल फ्री है. और हम यहाँ सब कुछ कर सकते है जो हमे MS Excel में करते है. तो हम कह सकते है की यह एक cost saving product है.

Multi User Google Sheets: इसके अलावा गूगल शीट्स एक Multi User भी है. कई लोग इस पर एक साथ काम कर सकते है.

Offline Google Sheets: गूगल शीट्स को ऑफलाइन भी इस्तिमाल कर सकते है.

Easy to use Google Sheets (Friendly User): गूगल शीट्स आसान है और आप इसे आसानी से इस्तिमाल कर सकते है. अपना कोई भी काम आप आसानी से गूगल शीट्स में कर सकते है.

Cloud Based Google Sheets: गूगल शीट्स एक क्लाउड बेस्ड सिस्टम है. क्लाउड बेस्ड का मतलब होता है की आप जो भी काम करते हो वो आप के कंप्यूटर में सुरक्षित नही रहता बल्कि ऑनलाइन सुरक्षित हो जाता है. इस का फ़ायदा यह है के अगर आप का कंप्यूटर ख़राब भी जो जय तो भी आप आसानी से इस डाटा को इस्तिमाल कर सकते है. और कस का दूसरा फ़ायदा यह भी है की आप दुन्या में चाहे कही भी हो आप अपने डाटा को आसानी से इस्तिमाल कर सकते है.

संक्षेप में अगर बात की जय तो Google Sheets आसान है, फ्री है. आप कही से भी इस का उपयोग कर सकते है. आप का डाटा भी सुरक्षित है. दुनया की सबसे बड़ी कंपनी Google आप को फ्री सर्विस दे रहे है. तो ज़ाहिर से बात है आप का डाटा तो सुरक्षित ही रहेगा। सबसे अच्छी बात यह है की अगर आप गूगल शीट्स सीख जाते है तो यह आप को जॉब भी दिला सकता है. बहुत सरे कंपनी गूगल शीट्स एक्सपर्ट लोग ढूंढ़ती है. तो Google Sheets आप के लिए एक बहुत अच्छा ऑप्शन है.

Google Sheets द्वारा बहुत सारे file types को support भी किया जाता है. जैसे हम सब जानते है की माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल . xlsx Type File Support करता है. इसे तरह Google Sheets भी बहुत सारी फाइल सपोर्ट करता है जैसे :

.xlsx

.xls

.xlt

.xlsm

.csv

.tsv

.txt


अगर देखा जय तो Google Sheets के कोई नुकसान नही है. बस हमे इसे समझने की ज़रुरत है. थोड़ा प्रक्टिक्स के बाद हम Google Sheets पर आसानी से काम कर सकते है. और इस का पूरा फ़ायदा उठा सकते है.


Google Sheets का किस ने बनाई। Who Invented Google Sheets?

Google Sheets गूगल का एक प्रोडक्ट है. लेकिन गूगल शीट्स को गूगल ने नही बनाया।  गूगल ने 2006 में एक कंपनी को खरीदा जिस का नाम था "2Web Technologies". गूगल शीट्स इसे कंपनी ने बनाया था. इस कंपनी को खरीदने के बाद इस के सब प्रोडक्ट गूगल में शामिल हो गए जिस में गूगल शीट्स भी शामिल है.


क्या हम गूगल शीट्स पर ऑफलाइन काम कर सकते है? | Can you work on google slides offline

जी हा हम गूगल शीट्स को ऑफलाइन भी इस्तिमाल कर सकते है.


क्या Google Sheets सीख कर Job मिल सकती है.

जी हा।  अगर आप Google Sheets Expert बन जाते है तो आपको एक अच्छी Job भी मिल सकते है.


नासा की इंटरनेट स्पीड कितनी है?

गूगल का फूल फॉर्म क्या है ? Google Full Form.

Google से पैसा कैसे कमाए?



Topic Covered: google sheets kya hai | google spreadsheet in hindi | google sheet ke owner access se kya hota hai | google sheet use karne se kya possible hota hai | google spreadsheet in hindi | गूगल शीट डाउनलोड | गूगल शीट कैसे बनाये | गूगल शीट कैसे बनाएं | गूगल शीट अप्प

Comments

Popular posts from this blog

English में अपना परिचय कैसे दें. Self-Introduction In Hindi To English.

English में अपना परिचय कैसे दें? Self Introduction In English आज हम आपको बताएंगे कि आपको बहुत ही आसानी से अपना परिचय कैसे देना है. इस Article में हम आपको बताएगें की "अपना परिचय कैसे दें हिंदी में और इंग्लिश में. अगर आप Job ढूंढ रहे है और आप को कही Interview के लिए जाते हो. तो आपसे सबसे पहला प्रश्न यही पूछा जाता है अपने बारे में कुछ बताएं। या अपना परिचय दे. इसे लिए आपका इस article को पूरा समझना ज़रूरी है. इस Article में दिये हुए सब sentence को आप याद कर के भी एक अच्छा interview दे सकते है. इस article को पड़ने के बाद आप को यह क्लियर हो जय गा   की Apna parechye Kaise de (How to introduce yourself )   Self-introduction In Hindi And English. Step By Step Introduction. Step 1..   अपना परिचय देने में सब से पहले आप बोलेगे गुड मॉर्निंग सर या मेडम। जो भी समय हो उस के अनुसार Good Morning Sir or Madam / Good After Noon Sir or Madam / Good Evening Sir or Madam Step 2..  फिर आप उन का शुक्रया अदा करेगे. सब से पहले में आप का आभारी हु की आप ने मुझे यह मौका / अफसर दिया। (इन शब्दों के

Free Bulk Email ID List - 1000 Active Email Data For Free 1 To 200

अगर आप Email Marketing करते है या करना चाहते है, तो आपको लोगो को email करने पड़ते है जिससे आप  की  वेबसाइट की marketing होती है. Email Marketing से हम बौहत अच्छी earning कर सकते है लकिन problem यह है की हमे email id कैसे मिले। free bulk email id list कैसे मिले. Free Email List कहा से Download करे. इस website की सहायता से हम आप को ज़ादा से ज़ादा free email address database देंगे। अगर आप google पर search कर रहे है की email id list kahan se nikale. तो आप को कही और जाने की ज़रूरत नही है. आप इस Email database को कॉपी एंड पेस्ट कर के इस्तिमाल कर सकते है. Aaradhykumar@gmail.com Aarhantkumar@gmail.com Aarishkumar@gmail.com Aaritkumar@gmail.com Aarivkumar@gmail.com Aarjavkumar@gmail.com Aarmankumar@gmail.com Aarnavkumar@gmail.com Aarnikkumar@gmail.com Aarogyakumar@gmail.com Aarpankumar@gmail.com Aarshinkumar@gmail.com Aarshkumar@gmail.com Aarthkumar@gmail.com Aarulkumar@gmail.com Aarunyakumar@gmail.com Aarushkumar@gmail.com Aarvkumar@gmail.com Aaryamankumar@gmail.com Free Email ID For Digital Marke

Free Bulk Email ID List - 1000 Active Email Data For Free 200 To 400

Get Million Email ID For Your Email Marketing. Free email database lists lot of free email database download in PDF.Free email marketing database for your digital marketing. You can get Free e mail database download from our website.  फ्री ईमेल डाटा कहा से निकाले | Free Email Data 1prabhanshu@gmail.com abhinani24@gmail.com abhishekti478@gmail.com aditya.ranjan09@gmail.com adityabose7@gmail.com akhileshbhambhani@gmail.com akrajawat20@gmail.com aksandhu90@gmail.com akshayshahu000@gmail.com aloky836@gmail.com am27491@gmail.com amarjun7@gmail.com amarpritsingh1989@gmail.com amit.harbola11@gmail.com anandrungta27@gmail.com anandsingh3k@gmail.com aneeshbanyal2011@gmail.com anilsasmal15@gmail.com anoop971@gmail.com anuj8315@gmail.com arkindia4@gmail.com arunthakur0g19@gmail.com ashishvedula@gmail.com ashraf.btech406@gmail.com ashu.rock25@gmail.com ashu2712.priya@gmail.com atripathi27@gmail.com atulkarki1991@gmail.com bishnuroy72@gmail.com bpnkesharwani@gmail.com chimanchandra23@gmail.com dalj

AM और PM क्या हैं? AM PM Full Form?

What is the full form of AM and PM? टाइम कैसे देखा जाता है, यह तो सब ही जानते है. लकिन क्या आप जानते है की टाइम को सुबह और शाम के हिसाब से अलग अलग तरह से लिखा जाता है.सुबह या शाम समझने के लिए टाइम को, सुबह के टाइम को AM को और शाम के टाइम को PM से समझा जाता है. जैसे सुबह को पांच बजते है और शाम को भी पांच बजते है. जब हम बात करते है तो हम बोल सकते है की सुबह के पांच बजे है या शाम के पांच बजे है. लकिन जब हम टाइम के बारे में लिखते है तो  इसे  थोड़ा अलग तरह से लिखा जाता है. आज हम इस article में आप को बताएगे की: AM PM क्या है? AM PM Meaning In Hindi.  AM and PM time क्या होता है? AM और PM की फुल फॉर्म क्या है ? 12 Hour Clock. 24 Hour Clock. 24 Hour Clock Chart. AM और PM की फुल फॉर्म क्या है ?  सबसे पहले समझते है की AM और PM की फुल फॉर्म क्या है ? What is the full form of AM And PM. AM full form is - Ante Meridiem - रात 12 बजे से दोपहर 12 बजे तक PM full form is - Post Meridiem -   दोपहर 12 बजे के बाद और रात को 12 बजे  तक AM PM क्या है? AM PM Meaning In Hindi.  AM – Ante Meridiem का मतलब होता

SpO2 लेवल क्या है? | SPO2 Level की पूरी जानकारी हिंदी में

SPO2 Level Hindi | क्या है Pulse Oximeter? सब से पहले यह समझते है की Spo2 Kya hai और Spo2 Ke Full Form Kya Hai?  Full Form of SpO2 : Saturation of Peripheral Oxygen Spo2 की फुल फॉर्म है  - सेचुरेशन ऑफ़ प्रिफेरल ऑक्सीजन SPO2 से हमारे खून में कितने ऑक्सीजन है. इस का पता चलता है. इस के साथ साथ आप के Blood में कितना हीमोग्लोबिन ऑक्सीजन के साथ आप के शरीर में है. यह सब पता चल जाता है. इस का पता एक छोटी से मशीन से लगाया जा सकता है और इस के लिए आप अपना ब्लड चेकउप भी करा सकते है।  पहले हमे Spo2 के बारे में ज़ादा नही सुना था। लकिन जब covid19 बीमारी आयी है हमे इस के बारे में काफी जानकारी हासिल हुई है. इस के साथ साथ  Spo2 लेवल का पता होना भी ज़रूरी है इस से हम काफी बीमारयों से बच सकते है।   Human Body Me Oxygen Level Kitna Hona Chahiye? दोस्तों इस कोरोना महामारी के समय में आप आप को कुछ बाते जानना बहुत ज़रूरी है. डॉक्टर के दिए गए निर्देशों के हिसाब से आप को अपना सब काम करना है. और सब नियमो का पालन भी करना है. इस सब के साथ साथ आप ने एक और बात भी सूनी होंगे वो है हमारे ब्लड में ऑक्सीजन लेवल नही गिरना चाह

Outlook में सिग्नेचर कैसे लगाए? (Set Signature In Outlook)

How To Add Signature In Outlook? अगर आप जॉब करते है. तो आप आउटलुक (Outlook) का इस्तिमाल भी करते होंगे। जादातर कंपनी अपने employee को आउटलुक की सुविधा देती है. क्युकी employees को ईमेल करने की बहुत ज़रुरत पड़ती है.  लकिन जब आप कोई new company join करते  हो तो Outlook में हमे अपना सिग्नेचर डालना होता है. Outlook सिग्नेचर में हमारे कुछ information होती है. जैसे हमारा नाम, हमारे designation,  Contact Number आदि. जब हम किसी दूसरे   employee को ईमेल करते है तो हमारे ईमेल के signature से वह हमारे बारे में काफी कुछ समझ जाता है. इसी लिए Outlook में signature ज़रूरी होना चहिये। (What is Outlook Signature?) Outlook Signature Step By Step Procedure: Step 1: अपना आउटलुक खोले (Open your Outlook) Step 2: ऊपर फाइल में जाए (Go to the file) Step 3: ऑप्शन पर क्लिक करे (Click on options) Step 4: आपके सामने नई विन्डो खुल कर आएगी (New window will open) Step 5: मेल पर क्लिक करे  (Click on Mail) Step 6: सिग्नेचर पर क्लिक करे (Click signature) Step 7: नई विन्डो खुल कर आएगी। यहाँ नई पर क्लिक करे  (One new window w

IBAN Number क्या होता है? | IBAN Number की फुल फॉर्म क्या है?

IBAN Number kya hota hai? दोस्तों अपने IBAN Number के बारे में बहुत बार सुना होगा। लकिन क्या आप जानते है की IBAN Number क्या होता है? | What Is IBAN Number? इस Article में हम आप को पूरी जानकारी देंगे। IBAN Number समझने से पहले IBAN Number ke full form को समझना ज़रूरी है. (IBAN Ke Jankari Hindi Me) IBAN Number की फुल फॉर्म क्या है? | IBAN Full Form IBAN Stands For : International Bank Account Number IBAN Number की फुल फॉर्म है : इंटरनेशनल बैंक अकाउंट नंबर IBAN Number की फुल फॉर्म समझने के बाद आप को काफी हद तक समझ आ गया होगा की IBAN Number का मतलब क्या है.(Meaning of IBAN Number) लकिन हम इसे विस्तार में समझते है.  IBAN Number क्या है? IBAN Number : International Bank Account Number होता है. जब भी हमे कोई पेमेंट करनी होती है या कोई पेमेंट रिसीव करनी होती है. तो हमे IBAN Number की आवशकता पड़ती है. जबकि अगर भारत के अंदर पेर्मेंट रिसीव करने है तो WSIFT कोड भी काम कर जाता है. लकिन अंतर्राष्ट्र्ये पेमेंट के लिए हमे IBAN Number की ही आवशकता पड़ती है. विदेशों में ज्यादा तर देश में IBAN Number की आ

कंप्यूटर में प्राइमरी और सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस क्या हैं?

What are primary and secondary storage devices in computer? हमारा कंप्यूटर को डाटा इकठा करने के लिए कई अलग-अलग स्टोरेज का उपयोग करना पड़ता है. जैसे प्राथमिक स्टोरेज (Primary Storage) और सेकेंडरी स्टोरेज (Secondary Storage). प्राइमरी स्टोरेज को हम RAM - रैंडम एक्सेस मेमोरी के नाम से जानते है, और सेकेंडरी स्टोरेज, यह सेकेंडरी स्टोरेज कंप्यूटर के अंदर हार्ड ड्राइव को कहा जाता है.  RAM  रैंडम एक्सेस मेमोरी में डाटा जब तक रहता है जब तक हमारा कंप्यूटर ON रहता है, जैसे ही कंप्यूटर ऑफ हुआ RAM का सारा डाटा चला जाता है. इसे लिए RAM को Volatile मेमोरी भी कहा जाता है. हार्ड ड्राइव HDD में डाटा एक बार स्टोर हो जय तो वो जब तक हम उसे Delete नही करते वो वही सेफ रहता है. हार्ड डिस्क ड्राइव हमारे कंप्यूटर के हार्डवेयर का ही पार्ट होती है. ९५% कंप्यूटर में ये पहले से हे फिट होते है, क्यों के इस क बिना कंप्यूटर में कुछ भी स्टोर नही कर सकते आप की परीक्ष में पूछे जाने वाले कुछ ज़रूर सवाल। 1 - कंप्यूटर की प्राइमरी स्टोरेज और सेकन्डोरी स्टोरेज में क्या अंतर है ? ( What is difference between primary

अरब देशो में कैसे पाएं जॉब | 10 सब से अच्छी वेबसाइट | 10 Tips To Get Fast Job In Arab Countries

Job In Gulf (Gulf - Dubai Me Job Kise Paye) अगर आप इंडिया में या कहीं पर Job  करते हैं और सोचते है की Saudi Arabia Jane Ke Liye Kya Kare और आप अपने करियर को एक नई ऊंचाई देना चाहते हैं. तो इस Article में अरब देशो और सभी देशो में जाने के बारे में आसानी से समझाया गया है.  हम आपको बताएंगे 10 ऐसी वेबसाइट जहा अगर आप अपना बायोडाटा Bio data डालते हैं, तो धीरे-धीरे आपको अरब अरब देशों से कॉल आने शुरू हो जाएगी और आपकी जॉब बहुत ही आसानी से लग जाएगी। लेकिन इसके लिए आपको थोड़ी सी मेहनत करनी पड़ेगी। आपको अपना बायोडाटा रोजाना अपडेट करना होगा। अपनी प्रोफाइल के हिसाब से आपको ज्यादा से ज्यादा अप्लाई करना होगा। अब जितना ज्यादा अप्लाई करेंगे। आपके जॉब पाने की chances उतने ही ज्यादा बढ़ जाएगी। बहुत सारे लोग कहते हैं कि इन website पर Apply करने से कोई फायदा नही होता है. लेकिन ऐसा बिल्कुल है. यह आर्टिकल लिखने से पहले मैं भी अरब देश में क़तर में जॉब करता था। और मेरा सिलेक्शन भी इन ही website पर apply करने से ही हुआ था. आप घर बैठे बिना पैसा खर्चा करें बिना किसी एजेंट को पैसा दिए हुए बहुत ही आसानी से अरब देशों की

मोबाइल से होने वाले 10 नुकसान | Mobile Side effects

Mobile Phne Top 10 Side Effects  आज मोबाइल हमारी एक जरूरत बन चुका है. जैसे कि आपने पहले सुना होगा की रोटी कपड़ा और मकान। यह तीन हमारी सब से ज़रूरी चीज़े थी. लेकिन अगर आप चाहें तो उसने मोबाइल का नाम ही दर्ज कर सकते हैं. क्योंकि मोबाइल हमारे जीवन की बहुत बड़ी जरूरत बन चुका है. मोबाइल सिर्फ बात करने के लिए ही नहीं बल्कि इंटरनेट से बहुत सारी सुविधाएं लेने के लिए, टाइम देखने के लिए, अलार्म लगाने के लिए, वीडियो कॉल करने के लिए, वीडियो मैसेज करने के लिए, Chat करने के लिए, Mobile Application इस्तिमाल करने के लिए और इस के अलावा भी बहुत कुछ हम मोबाइल पर कर सकते है. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि मोबाइल के इतने सारे फायदे होने के अलावा क्या इसकी कोई नुकसान की है. अगर आपने नहीं सोचा तो आज हम आपको इस आर्टिकल में मोबाइल से होने वाले बहुत सारे नुक़्सानो के बारे में बताएंगे। What are mobile side effects. इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आप अपने बच्चों को और अपने आपको मोबाइल से होने वाले सभी नुकसान होते बचा सकेंगे 1 - Bacteria From Screen (Dangerous Decease): मोबाइल खतरनाक बीमारियों जड़ क्या आप जानते है की मोबा